page mira cuckold bring on creamy jizz.

आवडलेली कविता

ऐ इन्सानों
कवि: गजानन माधव मुक्तिबोध

आँधी के झूले पर झूलो
आग बबूला बन कर फूलो
कुरबानी करने को झूमो
लाल सबेरे का मूँह चूमो
ऐ इन्सानों ओस न चाटो
अपने हाथों पर्वत काटो

पथ की नदियाँ खींच निकालो
जीवन पीकर प्यास बुझालो
रोटी तुमको राम न देगा
वेद तुम्हारा काम न देगा
जो रोटी का युद्ध करेगा
वह रोटी को आप वरेगा ।

Write. I would love to hear your views.

amatoriale napoli erster blowjob.pornoxo mobile